Join TelegramJoin WhatsApp

मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना:- 1लाख की तत्काल सहायक के साथ 18 साल की उम्र तक हर महीने मिलेंगे 2.5 हजार एवं उसके बाद 5 लाख…देखे योजना की सम्पूर्ण जानकारी

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 कोविड-19 के कारण अनाथ हुए बच्चों का सहारा बनेगी राज्य सरकार ‘मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना‘ में अभी मिलेंगे एक लाख रूपये 18 साल की उम्र तक ढ़ाई हजार रूपये प्रतिमाह,18 वर्ष की आयु पूरी होने पर मिलेंगे 5 लाख रूपये



जयपुर, 12 जून। कोविड-19 महामारी से अपने माता-पिता को खो चुके अनाथ बच्चों का सहारा अब राज्य सरकार बनेगी। कोरोना के कारण माता-पिता दोनों को अथवा एकल जीवित माता या पिता को खोने वाले बेसहारा बच्चों को ‘मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना‘ के तहत तत्काल सहायता के रूप में एक लाख रूपये का एकमुश्त अनुदान तथा 18 वर्ष पूरे होने तक ढ़ाई हजार रूपये की राशि प्रतिमाह दी जाएगी। अनाथ बालक-बालिका के 18 वर्ष की उम्र होने पर उसे 5 लाख रूपये एकमुश्त सहायता दी जाएगी। ऎसे बच्चों को 12वीं कक्षा तक पढाई की सुविधा आवासीय विद्यालय अथवा छात्रावास के माध्यम से निःशुल्क उपलब्ध कराई जाएगी। 

मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना के प्रेस नोट को डाउनलोड करने के लिए इस लिंक पर जाए।

                                        clickhere

Note:- प्रेस नोट को डाउनलोड करने के लिए ऊपर दी गयी लिंक पर जाकर टेलीग्राम का चयन करके डाउनलोड कर लेवे

कोविड-19 महामारी के कारण बेसहारा हुई कॉलेज में अध्ययनरत छात्राओं को सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा संचालित छात्रावासों में प्राथमिकता के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा। कॉलेज में पढ़ने वाले बेसहारा छात्रों को ‘अंबेडकर डीबीटी वाउचर योजना‘ का लाभ मिलेगा। कोविड महामारी से प्रभावित निराश्रित युवाओं को ‘मुख्यमंत्री युवा संबल योजना‘ के तहत बेरोजगारी भत्ता दिए जाने में प्राथमिकता दी जाएगी।

बेरोजगारी भत्ता योजना से जुड़ी जानकारी के लिए इस लिंक पर जाए।

                                  clickhere

इस महामारी के कारण अपने पति को खो चुकी विधवा महिलाओं को भी राज्य सरकार द्वारा एकमुश्त एक लाख रूपये की सहायता अनुदान के रूप में दी जाएगी। साथ ही, ऎसी विधवाओं को प्रतिमाह डेढ़ हजार रूपये विधवा पेंशन दी जाएगी। इसके लिये आयु वर्ग एवं आय की कोई भी सीमा नहीं होगी। इन विधवाओं के बच्चों को निर्वाह के लिए एक हजार रूपये प्रतिमाह तथा स्कूल ड्रेस एवं किताबों के लिए दो हजार रूपये सालाना प्रति बच्चा दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री कोरोना बाल कल्याण योजना के लाभ लेने की जानकारी के लिए इस लिंक पर जाए।

                                         clickhere  

उल्लेखनीय है कि कोरोना की दूसरी लहर में एक मात्र सहारा छिन जाने से कई बच्चे बेसहारा हो चुके हैं। मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने ऎसे बच्चों के प्रति संवेदनशीलता दिखाते हुए इनके लिए पैकेज तैयार करने के निर्देश दिये थे।

🔴सभी प्रकार की सूचनाओं की अपडेट के हमारे Whatsapp group से जुड़ने के लिए इस लिंक पर जाकर जुड़े:- clickhere

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment